Life Management

अपने आप से सवाल कीजिये – Ask Yourself

दोस्तों एक बहुत ही अच्छा गुण हम सब में बचपन में हुआ करता था लेकिन हम जैसे – जैसे बड़े होते गए वो गुण पूरी तरह से गायब हो गया हमारी जिंदगी से, क्या आप सोच सकते हैं आखिर वो गुण क्या था | वो गुण था सवाल करना / सवाल पूछना | आप अपने बचपन के दिनों को याद कीजिये कि क्या आप ऐसा नहीं करते थे, करते थे सभी करते थे | हम अपनी माँ से पिता से सवाल करते रहते थे कि माँ बताओं ना पापा बताओं ना ये ऐसे ही क्यों होता हैं ये ऐसा ही क्यों हैं ऐसा क्यों नहीं हैं वगैरह – वगैरह | लेकिन जैसे – जैसे हम बड़े होते गये हम सवाल करना भूल गये | अब हम सिर्फ जवाब देते हैं |

अब मैं आपको एक घटना बताता हूँ जिसको मैंने देखा | मैं एक दिन शाम को बाज़ार से घूमते हुए पैदल वापस घर आ रहा था तो मैंने आगे देखा की दो भाई साहब रास्ते में बंद पड़ी अपनी बाइक को स्टार्ट करने की कोशिश कर रहे थे | शायद काफी समय से लगे हुए थे वो दोनों | लेकिन बाइक स्टार्ट नहीं हो रही थी तो जैसे ही मैं उनके करीब पहुँचा तो पीछे से दो भाई साहब बाइक से आ रहे थे जैसे ही वो उनके पास से गुजरे उनमे से एक ने कहा की भाई साहब बाइक की टंकी में फूँक मार ले स्टार्ट हो जाएगी | ऐसा आपने भी देखा होगा कभी, अब आप देखिये उस भाई साहब ने चलते – चलते फ्री में एडवाइस दे दी की टंकी में फूँक मार ले | क्या जरूरी हैं की उनकी बाइक में पेट्रोल नहीं था इसलिए स्टार्ट नहीं हो रही थी, हो सकता हैं कोई और खराबी हो इंजन में प्रॉब्लम हो लेकिन नहीं उन्होंने सोच लिया की पेट्रोल नहीं होगा तो उन्होंने एडवाइस दे दी | वैसे अक्सर मैंने देखा हैं जब भी आपकी बाइक रास्ते बे बंद पड़ जाये तो लोग यही समझते हैं की पेट्रोल खत्म हो गया चाहे बंद पड़ने की वजह कुछ और ही हो | हम बिना सोचे समझे बस जवाब दे देते हैं जैसे तो हम उसके expert हो |

ऐसा क्यों हुआ क्योंकि हम सवाल करना भूल गये अगर उसने एडवाइस न देकर रुक कर पूछा होता की भाई साहब क्या हुआ, प्रॉब्लम का पता लगता फिर बाइक को मैकेनिक तक पहुंचाने में मदद करते तो उसकी प्रॉब्लम सुलझ जाती | लेकिन नहीं हम तो expert हैं ना |

दोस्तों अगर आप सवाल नहीं करेंगे तो आप जिंदगी में कुछ नहीं कर पायेंगे अब आप सोचेंगे की सवाल किस से करे यहाँ कन किसकी मदद करता हैं, तो मेरा जवाब हैं किसी से नहीं आप खुद से सवाल करें | मान लीजिये आपका कोई काम फेल हो गया तो एक उपाय ये हैं की आप हजार बहाने सामने रख दो कि मुझे सपोर्ट नहीं मिला, मुझे सुविधायें नहीं मिली इसलिए मैं ये काम नहीं कर पाया ये आपके जवाब हैं और ये आपने खुद बनाये हैं ऐसी स्थिति में आप कभी ऊपर नहीं उठ पाओगे | याद रखिये अगर किसी काम को करने की आपके पास एक वजह भी होगी तो आप कर जाओगे [ वैसे ये अलग पार्ट हैं हम इस पर फिर कभी बात करेंगे ] | दूसरा उपाय जो मैंने कहा की सवाल करो, आपको किसी दुसरे से सवाल करने की जरूरत नहीं हैं अपने आप से सवाल करो कि ऐसा क्यों हुआ, मैंने कहाँ गलती की हैं, इसमें मैं और क्या कर सकता हूँ , इस काम को करने के और क्या रास्ते हो सकते हैं | यकीन मानिये दोस्तों आपको जवाब मिलेगा और खुद से ही मिलेगा | मैं यहाँ कोई बनी बनायीं बाते नहीं बता रहा हूँ की आपको बता दिया और आप मोटीवेट हो गये | मैंने इसको practically किया हैं अपनी जिंदगी में और कर रहा हूँ, आप अपने आप से सवाल करके तो देखिये जवाब मिलेगा | न्यूटन ने अगर अपने आप से ये सवाल नहीं किया होता की ये सेब पेड़ से नीचे ही क्यों गिरा ऊपर क्यों नहीं गया तो क्या आप आज न्यूटन को जान पाते | न्यूटन के इसी अपने आप से पूछे गये सवाल ने उनको दुनिया का महान वैज्ञानिक बना दिया ||

आखिर में एक बार कहना चाहूँगा दोस्तों ” अपने आप से सवाल कीजिये ” ||

 

[ दोस्तों आप अपने सुझाव मुझे comment करके या About us में दी गयी Email पर बता सकते हैं आपका कोई सवाल हो तो पूछ सकते हैं | ]

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *